HINDUISM AND SANATAN DHARMA

Hinduism,Cosmos ,Sanatan Dharma.Ancient Hinduism science.

How British started Hindu casteism? Decoded

Thousands of years old history is read.
In the name of #untouchability and #casteism, the poison that was mixed in the society by the Mughals and the British, what was it and what is it now.

Emperor #Shantanu married #Satyavati, the daughter of a fisherman. His son became the king, so #Bhishma did not marry, Bhishma vowed to remain childless for life.

Satyavati’s sons later became Kshatriyas, for whom Bhishma remained unmarried for life, would they have been exploited?

Ved Vyas, who wrote the Mahabharata, was also the son of Machwaran, but became a Maharishi, he used to run the Gurukul.

Vidur, who is called Maha Pandit, was the son of a maidservant, became the general minister of Hastinapur, Vidur Niti, written by him, is a great book on politics.

#Bhima married the forest dweller #Hidimba.

#Shri Krishna was from the family of milk businessmen,

His brother Balram used to do farming, always kept the plow with him.

#Yadav has been Kshatriya, ruled many provinces and Shri Krishna is revered by all, gave a book like Gita to the world.

The forest dwellers used to study in #Nishadraj Gurukul with Ram.

His son Luv Kush studied in the Gurukul of Maharishi Valmiki who was a forest dweller and was the first dacoit.

So it is the matter of Vedic period, it is clear that no one exploited anyone, everyone had the right to education, anyone could reach the post according to his ability.

Varnas were only on the basis of work, they could be changed, what is today called the Division of Labor in Economics.

Talking about ancient India, the Nanda dynasty ruled by Magadha, the largest district of India, was a barber by caste.

The Nanda dynasty was started by Mahapadmanand, who was the king barber. Later he became the king and then his son too.
Later all were called Kshatriyas.

After that the Maurya dynasty ruled the whole country, which started with Chandragupta, who was from a peacock-rearing family and a Brahmin Chanakya made him the emperor of the whole country. The country was ruled by the Mauryas for 506 years.

Then came the rule of the Gupta dynasty, which ran horse stables and traded horses. The Guptas ruled the country for 140 years.

Except for the 36 years of #Pushyamitra_Shung’s rule, 92% of the time in ancient times, the rule in the country belonged to those who are today called Dalits backward, so where did the exploitation come from? There is nothing exploitative here either.

Then begins the time of medieval India, which is from 1100-1750, during which Muslim rule was mostly in most places.

In the end the Marathas emerged, Baji Rao Peshwa, who was a Brahmin, made Gaikwad, a cow herder, the king of Gujarat, and Holkar of the shepherd caste, the king of Malwa.

Ahilya Bai Holkar herself was the daughter of Mankar, she was a great devotee of Shiva, she ruled Indore and built many temple Gurukuls.

Mira Bai who was a Rajput, her guru was a tanner Ravidas and Ravidas’s guru was Brahmin Ramanand.

There is no point of exploitation here.

Dirt started in the country from the Mughal period and things like purdah system, slave system, child marriage start from here.

From 1800-1947 there was British rule and from here casteism started. Which they did under the policy of divide and rule.

In the book “Cast of Mind” by the British officer #Nicholas_Dark, you will find how the British increased casteism, untouchability and how selfish Indian leaders politicized it in their own interest.

In the history of these thousands of years, many foreigners have come to the country who have written books on the social condition of India, such as “Megasthenes” wrote Indica, many like ‘Fahian’, ‘Hue Song’ and ‘Alberuni’. No one wrote that anyone was exploited here.

Birth based caste system was brought to weaken Hindus.

So be proud to be an Indian and save yourself and others from the conspiracy of hatred, malice and discrimination.

Now Hindi translation-

हजारो साल पुराना इतिहास पढ़ते हैं।

छुआछूत और #जातिवाद के नाम पर मुगलों और अंग्रेजो द्वार समाज में घोला गया जहर पहले क्या था अब क्या है जरूर पढ़े

सम्राट #शांतनु ने विवाह किया एक मछवारे की पुत्री #सत्यवती से।उनका बेटा ही राजा बने इसलिए #भीष्म ने विवाह न करके,आजीवन संतानहीन रहने की भीष्म प्रतिज्ञा की।

सत्यवती के बेटे बाद में क्षत्रिय बन गए, जिनके लिए भीष्म आजीवन अविवाहित रहे, क्या उनका शोषण होता होगा?

महाभारत लिखने वाले वेद व्यास भी मछवारन के बेटे थे, पर महर्षि बन गए, गुरुकुल चलाते थे वो।

विदुर, जिन्हें महा पंडित कहा जाता है वो एक दासी के पुत्र थे, #हस्तिनापुर के महामंत्री बने, उनकी लिखी हुई विदुर नीति, राजनीति का एक महाग्रन्थ है।

भीम ने वनवासी #हिडिम्बा से विवाह किया।

श्रीकृष्ण दूध का व्यवसाय करने वालों के परिवार से थे,

उनके भाई #बलराम खेती करते थे , हमेशा हल साथ रखते थे।

यादव क्षत्रिय रहे हैं, कई प्रान्तों पर शासन किया और श्रीकृषण सबके पूजनीय हैं, गीता जैसा ग्रन्थ विश्व को दिया।

राम के साथ वनवासी #निषादराज गुरुकुल में पढ़ते थे।

उनके पुत्र लव कुश महर्षि #वाल्मीकि के गुरुकुल में पढ़े जो वनवासी थे और पहले डाकू थे।

तो ये हो गयी वैदिक काल की बात, स्पष्ट है कोई किसी का शोषण नहीं करता था,सबको शिक्षा का अधिकार था, कोई भी पद तक पहुंच सकता था अपनी योग्यता के अनुसार।

वर्ण सिर्फ काम के आधार पर थे वो बदले जा सकते थे, जिसको आज इकोनॉमिक्स में डिवीज़न ऑफ़ लेबर कहते हैं वो ही।

प्राचीन भारत की बात करें, तो भारत के सबसे बड़े जनपद मगध पर जिस नन्द वंश का राज रहा वो जाति से #नाई थे ।

नन्द वंश की शुरुवात #महापद्मनंद ने की थी जो की राजा नाई थे। बाद में वो राजा बन गए फिर उनके बेटे भी,
बाद में सभी क्षत्रिय ही कहलाये।

उसके बाद #मौर्य वंश का पूरे देश पर राज हुआ, जिसकी शुरुआत #चन्द्रगुप्त से हुई,जो कि एक मोर पालने वाले परिवार से थे और एक ब्राह्मण #चाणक्य ने उन्हें पूरे देश का सम्राट बनाया । 506 साल देश पर मौर्यों का राज रहा।

फिर गुप्त वंश का राज हुआ, जो कि घोड़े का अस्तबल चलाते थे और घोड़ों का व्यापार करते थे।140 साल देश पर गुप्ताओं का राज रहा।

केवल #पुष्यमित्र_शुंग के 36 साल के राज को छोड़ कर 92% समय प्राचीन काल में देश में शासन उन्ही का रहा, जिन्हें आज दलित पिछड़ा कहते हैं तो शोषण कहां से हो गया ? यहां भी कोई शोषण वाली बात नहीं है।

फिर शुरू होता है मध्यकालीन भारत का समय जो सन 1100- 1750 तक है, इस दौरान अधिकतर समय, अधिकतर जगह मुस्लिम शासन रहा।

अंत में #मराठों का उदय हुआ, बाजी राव पेशवा जो कि ब्राह्मण थे, ने गाय चराने वाले #गायकवाड़ को गुजरात का राजा बनाया, #चरवाहा जाति के #होलकर को मालवा का राजा बनाया।

अहिल्या बाई होलकर खुद मानकर की बेटी थी बहुत बड़ी शिवभक्त थी, इंदौर में राज चलाया ढेरों मंदिर गुरुकुल उन्होंने बनवाये।

मीरा बाई जो कि राजपूत थी, उनके गुरु एक चर्मकार #रविदास थे और रविदास के गुरु ब्राह्मण #रामानंद थे|।

यहां भी शोषण वाली बात कहीं नहीं है।

मुग़ल काल से देश में गंदगी शुरू हो गई और यहां से पर्दा प्रथा, गुलाम प्रथा, बाल विवाह जैसी चीजें शुरू होती हैं।

1800-1947 तक अंग्रेजो के शासन रहा और यहीं से जातिवाद शुरू हुआ । जो उन्होंने फूट डालो और राज करो की नीति के तहत किया।

अंग्रेज अधिकारी #निकोलस_डार्क की किताब “कास्ट ऑफ़ माइंड” में मिल जाएगा कि कैसे अंग्रेजों ने जातिवाद, छुआछूत को बढ़ाया और कैसे स्वार्थी भारतीय नेताओं ने अपने स्वार्थ में इसका राजनीतिकरण किया।

इन हजारों सालों के इतिहास में देश में कई विदेशी आये जिन्होंने #भारत की सामाजिक स्थिति पर किताबें लिखी हैं, जैसे कि “मेगास्थनीज” ने इंडिका लिखी, ‘फाहियान’, ‘ह्यू सांग ‘और ‘अलबरूनी’ जैसे कई। किसी ने भी नहीं लिखा की यहां किसी का शोषण होता था।

जन्म आधारित #जातीयव्यवस्था #हिन्दुओ को कमजोर करने के लिए लाई गई थी।

इसलिए भारतीय होने पर गर्व करें और घृणा, द्वेष और भेदभाव के षड्यंत्र से ख़ुद भी बचें और औरों को भी बचाएं

One comment on “How British started Hindu casteism? Decoded

  1. Sakshi Adishya
    May 6, 2022

    Excellent

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

I'm just starting out; leave me a comment or a like :)

Follow HINDUISM AND SANATAN DHARMA on WordPress.com

Follow me on Twitter

type="text/javascript" data-cfasync="false" /*/* */
%d bloggers like this: