HINDUISM AND SANATAN DHARMA

Hinduism,Cosmos ,Sanatan Dharma.Ancient Hinduism science.

Amazing weather Mandir Of Bhagwan Jagannath in Kanpur

आपकोताजमहलअजूबालगताहै,तो यह पढ़िए बारिश की पूर्व सूचना देता है कानपुर का जगन्नाथ मंदिर ।

क्या आप कल्पना कर सकते हैं किसी ऐसे भवन की जिसकी छत चिलचिलाती धूप में टपकने लगे बारिश की शुरुआत होते ही जिसकी छत से पानी टपकना बंद हो जाए

ये घटना है तो हैरान कर देने वाली लेकिन सच है उत्तर प्रदेश की औद्योगिक नगरी कहे जाने वाले कानपुर जनपद के भीतरगांव विकास खंड से ठीक तीन किलोमीटर की दूरी पर एक गांव है बेहटा

यहीं पर है धूप में छत से पानी की बूंदों के टपकने और बारिश में छत के रिसाव के बंद होने का रहस्य

यह घटनाक्रम किसी आम ईमारत या भवन में नहीं बल्कि यह होता है भगवान जगन्नाथ के अति प्राचीन मंदिर में
छत टपकने से हो जाती है बारिश की आहट –

ग्रामीण बताते हैं कि बारिश होने के छह-सात दिन पहले मंदिर की छत से पानी की बूंदे टपकने लगती हैं इतना ही नहीं जिस आकार की बूंदे टपकती हैं उसी आधार पर बारिश होती है

अब तो लोग मंदिर की छत टपकने के संदेश को समझकर जमीनों को जोतने के लिए निकल पड़ते हैं हैरानी में डालने वाली बात यह भी है कि जैसे ही बारिश शुरु होती है छत अंदर से पूरी तरह सूख जाती है

वैज्ञानिक भी नहीं जान पाए रहस्य –
मंदिर की प्राचीनता व छत टपकने के रहस्य के बारे में मंदिर के पुजारी बताते हैं कि पुरातत्व विशेषज्ञ एवं वैज्ञानिक कई दफा आए लेकिन इसके रहस्य को नहीं जान पाए हैं अभी तक बस इतना पता चल पाया है कि मंदिर के जीर्णोद्धार का कार्य 11वीं सदी में किया गया

मंदिर की बनावट बौद्ध मठ की तरह है। इसकी दिवारें 14 फीट मोटी हैं जिससे इसके सम्राट अशोक के शासन काल में बनाए जाने के अनुमान लगाए जा रहे हैं वहीं मंदिर के बाहर मोर का निशान व चक्र बने होने से चक्रवर्ती सम्राट हर्षवर्धन के कार्यकाल में बने होने के कयास भी लगाए जाते हैं लेकिन इसके निर्माण का ठीक-ठीक अनुमान अभी नहीं लग पाया है

भगवान जगन्नाथ का यह मंदिर अति प्राचीन है मंदिर में भगवान जगन्नाथ बलदाऊ व सुभद्रा की काले चिकने पत्थरों की मूर्तियां विराजमान हैं प्रांगण में सूर्यदेव और पद्मनाभम की मूर्तियां भी हैं जगन्नाथ पुरी की तरह यहां भी स्थानीय लोगों द्वारा भगवान जगन्नाथ की यात्रा निकाली जाती है लोगों की आस्था मंदिर के साथ गहरे से जुड़ी है लोग दर्शन करने के लिए आते रहते हैं ।

English translation

If you think Tajmahal_wonder then read this, Jagannath temple of Kanpur gives prior information of rain.

Can you imagine a building whose roof starts dripping in the scorching sun, as soon as the rain starts, water stops dripping from the roof?

This incident is surprising but it is true that there is a village exactly three kilometers away from the Bhitargaon development block of Kanpur district, which is called the industrial city of Uttar Pradesh.

Here is the secret of water droplets dripping from the roof in the sun and stopping the leaking of the roof in the rain

This event does not happen in any common building or building, but it happens in the very ancient temple of Lord Jagannath.
Roof leaking causes the sound of rain –

Villagers say that six-seven days before the rain, drops of water start dripping from the roof of the temple, not only this, it rains on the basis of the size of the droplets.

Now people understand the message that the roof of the temple is dripping and go out to plow the land, the surprising thing is that as soon as the rain starts, the roof dries up completely

Even scientists could not know the secret –
Regarding the antiquity of the temple and the secret of the roof leaking, the priests of the temple tell that archaeologists and scientists have come many times but have not been able to know its secret, so far only it has been known that the work of restoration of the temple was done in the 11th century. Gone

The structure of the temple is like that of a Buddhist monastery. Its walls are 14 feet thick, due to which it is being estimated to be built during the reign of Emperor Ashoka, while the peacock’s mark and wheel outside the temple are also speculated to have been built during the reign of Chakravarti Emperor Harshavardhana. The exact construction estimate has not yet been made

This temple of Lord Jagannath is very ancient. In the temple, the idols of Lord Jagannath Baldau and Subhadra are situated in black smooth stone. There are also idols of Suryadev and Padmanabham in the courtyard. Like Jagannath Puri, the visit of Lord Jagannath is taken out by the local people here. Faith is deeply associated with the temple, people keep coming to visit.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

I'm just starting out; leave me a comment or a like :)

Follow HINDUISM AND SANATAN DHARMA on WordPress.com

Follow me on Twitter

type="text/javascript" data-cfasync="false" /*/* */
%d bloggers like this: